पुणे – देशभक्ती (desh bhakti) व्यक्त करण्याचा शायरी (shayari) हा सर्वोत्तम मार्ग आहे, होय, काही शब्द लोकांसमोर आपले मत सहज व्यक्त करू शकतात. अशा परिस्थितीत तुमच्या मित्रांना कोणती कविता (shayari) पाठवायची असा विचार करत असाल तर आजचा लेख याच विषयावर आहे. 

आज आम्ही तुम्हाला या लेखाद्वारे सांगणार आहोत की तुम्ही तुमच्या प्रियजनांना कोणती कविता (शायरी) (shayari) पाठवू शकता. वाचा…

1. तिरंगा है आन मेरी, तिरंगा ही है शान मेरी,
तिरंगा रहे सदा ऊँचा हमारा,
तिरंगे से है धरती महान मेरी.

2. कोई हस्ती कोई मस्ती कोई चाह पे मरता है,
कोई नफरत कोई मोहब्बत कोई लगाव पे मरता है,
यह देश है उन दीवानों का,
यहाँ हर बन्दा अपने वतन पे मरता है.

3. तीन रंग का नही वस्त्र,
ये ध्वज देश की शान है,
हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान है,
यही है गंगा, यही है हिमालय,
यही हिन्द की जान है,
और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान है

4. एक सैनिक ने क्या खूब कहा है,
किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।

5. ये देश से ही तो एक प्यार है,
वर्ना यहाँ सब के बीच तकरार है,
इस देश के लिए हम मरने को भी तैयार है,
एक बार मौका तो दे फिर देख,
ये देश द्रोही को वॉर के लिए ललकार है

6. मैं मर जाऊँ तो सिर्फ मेरी इतनी पहचान लिख देना,
मेरे खून से मेरे माथे पर जन्म स्थान लिख देना,
कोई पूछे तुमसे स्वर्ग के बारे में तो,
एक कागज के टुकड़े में हिन्दुस्तान लिख देना.

7. कुछ पन्ने पढ़ कर इतिहास के,
मेरे मुल्क के सीने में शमशीर हो गए,
जो लड़े जो मरे वो शहीद हो गए,
जो डरे जो झुके वो वजीर हो गए.

8. दोस्ताना इतना बरकरार रखो कि
मजहब बीच में न आये,
कभी तुम उसे मंदिर तक छोड़ दो,
वो तुम्हें मस्जिद छोड़ आये कभी.

9. लुटेरा है अगर आजाद, तो अपमान सबका है,
लुटी है एक बेटी, तो लुटा सम्मान सबका है,
बनो इंसान पहले छोड़ कर तुम बात मजहब की,
लड़ो मिलकर दरिंदों से ये हिंदुस्तान सबका है

10. चलो फिर से आज वो नज़ारा याद कर लें,
शहीदों के दिल में थी वो ज्वाला याद कर लें,
जिसमें बहकर आजादी पहुंची थी किनारे,
देशभक्तों के खून की वो धारा याद कर लें